नई दिल्ली में 6वें सीआईआई आयुष संगोष्ठी 2022 का आयोजन

आयुष मंत्रालय के सहयोग से नई दिल्ली में 6वें सीआईआई आयुष संगोष्ठी 2022 का आयोजन किया गया। केंद्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने इस संगोष्ठी में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए इस बात पर बल दिया कि किस प्रकार से आयुष मंत्रालय अपने नागरिकों को समग्र स्वास्थ्य देखभाल और चिकित्सा देखभाल प्रदान करके ‘न्यू इंडिया’ के सपने को साकार करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

अपने उद्घाटन भाषण में सोनोवाल ने कहा कि “हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन और दूरदर्शी नेतृत्व में आयुष बाजार अब 03 बिलियन डॉलर से 18 बिलियन डॉलर तक पहुंच चुका है।” उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में हम एक अत्यधिक ग्रहणशील माहौल को देख रहे हैं, जहां स्वास्थ्य देखभाल में आयुष प्रणालियों को व्यापक रूप से मान्यता प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि अनुसंधान रणनीतियों, अभ्यास प्रकृति और शिक्षा में अनेक सुधार किए जा रहे हैं, जो इस क्षेत्र को विकासित करने मेंसहयोग करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि हमारे देश के युवाओं को आयुष प्रणालियों के बारे में गहराई से अध्ययन करना चाहिए।

वैद्य राजेश कोटेचा, सचिव, आयुष मंत्रालय ने अपने मुख्य भाषण में कहा कि आयुष मंत्रालय द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के सहयोग से आयुष प्रणाली के लिए बहुत बेंचमार्क स्थापित किए गए हैं। ये बेंचमार्क सभी हितधारकों, विशेष रूप से आयुष प्रणालियों से संबंधित उद्योगों के लिए फायदेमंद साबित होंगे।

प्रमोद कुमार पाठक, विशेष सचिव,आयुष मंत्रालय ने व्यापार में सुगमता के लिए नियामक रूपरेखा पर एक पूर्ण सत्र को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि व्यापार में सुगमता का पहला महत्वपूर्ण पहलू विचार-विमर्श है और यह कार्य आयुष मंत्रालय में बहुत दृढ़ता के साथ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा, वैज्ञानिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए आयुष मंत्रालय विज्ञान और जैव प्रौद्योगिकी विभागों के साथ मिलकर काम कर रहा है और उनसे प्राप्त इनपुट हमारे रोडमैप में प्रभावी रूप से शामिल किए गए हैं।

6वें सीआईआई आयुष संगोष्ठी, 2022 का आयोजन आयुष मंत्रालय के सहयोग से भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा किया गया। इस आयोजन में आयुष प्रणाली के प्रमुख हितधारकों ने नियामक रोडमैप, आयुष क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास, ब्रांडिंग, प्रचार और विपणन जैसे विषयों पर चर्चा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here