Top 5 राजस्थान

सत्र बुलाने पर अड़े सीएम गहलोत: कैबिनेट बैठक के बाद फिर भेज सकते प्रस्ताव

जयपुर: राजस्थान में सियासी संकट ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है. राजस्थान में सचिन पायलट के बागी सुर अपनाने के बाद शुरू हुई माथापच्ची अब सीएम अशोक VS   पाज्य्पाला पर आ गयी है.

बतादें कि राज्यपाल कलराज मिश्र द्वारा सीएम अशोक गहलोत का सत्र बुलाने के प्रस्ताव को ठुकराने के बाद एकबार फिर से सीएम अशोक गहलोत विधानसभा का सत्र बुलाने का प्रस्ताव भेज सकते हैं. दरअसल मंगलवार को अशोक गहलोत सरकार की अहम बैठक होने जा रही है. यह बैठक सीएम आवास पर होगी. माना जा रहा है कि अशोक गहलोत केबिनेट राज्यपाल के पास एक बार फिर विधान सभा का सत्र बुलाने के लिए प्रस्ताव भेजने पर मुहर लगा सकती है.

कोरोना महामारी: USA-ब्राजील के बाद भारत में सबसे अधिक मामले

सीएम गहलोत लगातार विधानसभा का सत्र बुलाने की मांग कर रहे हैं. इससे पहले राज्यपाल कलराज मिश्र ने विधानसभा का सत्र बुलाने के प्रस्ताव को लौटा दिया था. प्रस्ताव लौटाते हुए कहा गया है, ‘प्रिंट मीडिया एवं इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया में राज्य सरकार के बयान से यह स्पष्ट है कि राज्य सरकार विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव लाना चाहती है, परंतु सत्र बुलाने के प्रस्ताव में इसका उल्लेख नहीं है. यदि राज्य सरकार विश्वास मत हासिल करना चाहती है तो यह अल्पावधि में सत्र बुलाए जाने का युक्तिसंगत आधार बन सकता है.’

नहीं थम रहा कोरोना का कहर: 15 लाख के करीब हुए मामले- लेकिन एक है अच्छी खबर   

राजस्थान में जारी सियासी कलह के बीच इस समय राज्यपाल बनाम अशोक गहलोत और पार्टी पार्टी में बयानबाजी जारी है. कांग्रेस ने राज्यपाल द्वारा सत्र न बुलाये जाने पर तंज मरते हुए कहा कि राज्यपाल को संविधान के अनुसार काम करना चाहिये… न कि बीजेपी के रुख के अनुसार. इस समय राजस्थान की सियासत में सचिन पायलट से ज्यादा राज्यपाल पर निगाहें बनी हुई हैं.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *