Top 5 राजस्थान

सीएम गहलोत के शक्ति प्रदर्शन से क्रैश हुआ पायलट का प्लान?

जयपुर: राजस्थान की सत्ता हिली और दिल्ली तक हलचल बढ़ गयी. कांग्रेस पार्टी ने नाराज और बगावत पर उतरे उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को मनाने की कोशिश तेज कर दी साथ ही उनके खेमे के विधायकों को भी साथ लेने की कोशिश जारी  राखी. इसी बीच सोमवार को सीएम अशोक गहलोत के हुए शक्ति प्रदर्शन के बाद सचिन पायलट के सभी दावे गलत साबित होते जा रहे हैं वहीँ उनके खिलाफ अब अनुशासनात्मक कार्रवाई भी की जा सकती है.

बतादें कि राजस्थान में कांग्रेस के चुनाव जीतने के अशोग गहलोत को सीएम बनाने के बाद से ही धुंआ उतना शुरू हो गया था, लेकिन पूरी आग अभी जलनी दिखाई दी. जब राजस्थान में सरकार गिराने की साजिश को लेकर बीजेपी के दो नेताओं को गिरफ्तार किया गया और कांग्रेस पार्टी के ही सचिन पायलट जैसे नेताओं को नोटिस जारी कर दिया गया. उधर अशोक गहलोत मानने को तैयार नहीं हैं. उनका कहना है कि उनके साथ विधायकों का समर्थन है और सरकार को कोई भी खतरा नहीं है.

अमिताभ-अभिषेक को लेकर आई अच्छी खबर: सेहत में आ रहा सुधार…

ऐसे में कल तलक खुद के साथ 30 विधायकों के होने की बात कहने वाले सचिन पायलट के दावे  गलत साबित हो रहे हैं. क्योंकि सोमवार को सीएम गहलोत की अगुवाई में विधायकों की हुई बैठक में उन्हें विधायकों का पूरा समर्थन है और  उनकी सरकार सुरक्षित है. राजस्थान में अशोक गहलोत को 109 विधायकों का समर्थन है. इनमें से 104 वहां मौजूद हैं, जबकि पांच विधायकों ने समर्थन पत्र सौंपा है. वहीं सचिन पायलट के सपोर्ट में उन्हें मिलाकर कुल 17 विधायक हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि सचिन पायलट का प्लान क्रैश हो गया. उधर कांग्रेस पार्टी आलाकमान ने सचिन पायलट से वापस लौटने को कहा है.

सीएम गहलोत के शक्ति प्रदर्शन पर पायलट का बयान: सिर्फ 84 विधायकों से चल रही है सरकार…

सचिन पायलट को पार्टी द्वारा भेजे गए संदेश में कहा गया है कि हम लोग आपको प्यार करते हैं, आपका सम्मान करते हैं. हम लोग खुले दिल से आपका स्वागत करते हैं. कृपया वापस आइए और बात कीजिए. युवा नेता सचिन पायलट को मनाने के लिए कांग्रेस के पांच बड़े नेताओं- राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, केसी वेणुगोपाल, पी चिदंबरम और अहमद पटेल ने उनसे बात की है. उधर एक रिपोर्ट की माने तो सचिन पायलट ने सरकार में बड़ी जिम्मेदारी मांगी है. उन्होंने समर्थक मंत्रियों को गृह और वित्त विभाग जैसे महत्वपूर्ण विभाग देने की मांग की है. साथ ही प्रदेश अध्यक्ष का पद अपने पास रखने की मांग की है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *