Top 5 राजनीति

सोनिया गांधी ने की इस्तीफे की पेशकश: परिवार के वफादारों ने कहा ‘गाँधी’ के अलावा कोई मंजूर नहीं…

नई दिल्ली: देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस में एक बार फिर से अध्यक्ष पद लप लेकर विवाद छिड़ा हुआ है. पिछले साल राहुल गांधी के द्वारा अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिए जाने के बाद सोनिया गांधी को पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनाया गया था. जिसे एक वर्ष पूरा हो गया है. ऐसे में उनके द्वारा पार्टी के अध्यक्ष पद की कमान छोड़ने की बात के बाद कांग्रेस में आंतरिक कलह छिड़ गयी है.

बतादें कि कांग्रेस पार्टी की कमान किसके पास होगी? क्या कांग्रेस पार्टी को इस बार गैर गांधी और  गैर परिवारी  अध्यक्ष मिलने वाला है. पिछले कुछ सालों ने कांग्रेस पार्टी में कई राज्यों में हार और लोकसभा चुनाव के प्रदर्शनों के बाद पार्टी के अंदर ही आवाज उठनी शुरू हुई थी.  हलन कि उसके बाद भी सोनिया गांधी के बाद राहुल गांधी को पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया था, लेकिन लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद राहुल ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया और सोनिया गांधी को पार्टी का फिर से अंतरिम अध्यक्ष बनाया गया.

राजनीतिक बयानबाजी पर आया फेसबुक का पक्ष: कहा सबसे पारदर्शी प्लेटफॉर्म…

जिसे करीब एक वर्ष पूरा हो गया है. ऐसे में पार्टी के  दर्जनों नेताओं ने पार्ट्री नेतृत्व में बदलाव के लिए पट लिख डाले. इसी बीच दो दिन  पूर्व सोनिया गांधी ने कांग्रेस पार्टी के अंतरिम अध्यक्ष का पद छोड़ने की पेशकश कर कांग्रेस पार्टी में अंदर ही विवाद खड़ा कर दिया. विवाद इस लिए कहा जा रहा है कि नेतृत्व में बदलाव की मांग करने वालों पर गांधी परिवार के वफादारों ने नेतृत्व में बदलाव की मांग करने वालों के खिलाफ ही बिगुल फूंक दिया है. तमाम राज्य इकाइयों से लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, भूपेश बघेल और कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पत्र लिखने वाले नेताओं का खंडन किया है. इधर CWC की बैठक होने वाली है. जहाँ यह मुद्दा जोर शोर से उठ सकता है.

चीन को एक और बड़ा झटका: अब भारत में बनेगी वंदे भारत ट्रेन…

गाँधी परिवार के समर्थक नेता सोनिया गांधी से अध्यक्ष पद पर बने रहने की मांग कर सकते हैं, अगर सोनिया गांधी इनकार करती हैं तो? राहुल गांधी को फिर से पार्टी का अध्यक्ष बनाये जाने की मांग उठ सकती है. हालांकि राहुल गांधी पहले भी इनकार कर चुके हैं उनका वही स्टैंड अभी भी कायम है. कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पड़ के लिए अगले छह महीने में चुनाव होने हैं. जिसमें 9000 से 10000 डेलीगेट अध्यक्ष पद का चयन करेंगे. फिलहाल अगर चुनाव में सोनिया गांधी या राहुल गांधी अपना नामांकन करते हैं तो उनका जीतना स्वाभाविक है, लेकियन अगर गांधी पार्टी अध्यक्ष पद से खुद को दूर रखता है तो पार्टी और ‘परिवार’ के प्रति वफादार को अध्यक्ष पद पर बिठाया जा सकता है. Congress party CWC meeting held on new president of congress

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *