Top 5 राजस्थान

राजस्थान: राज्यपाल ने तीसरी बार लौटाई सत्र बुलाने की मांग की फाइल  

जयपुर: राजस्थान का सियासी संग्राम थमने का नाम नहीं ले रहा है. कांग्रेस नेता और सीएम अशोक गहलोत 31 जुलाई को विधानसभा सत्र की बुलाने की मांग पर अड़े हैं तो राज्यपाल ने उनकी तीसरी बार मांग को मानने से इनकार कर दिया है.

बतादें कि मंगलवार को ही सीएम अशोक गहलोत की कैबिनेट की बैठक हुई थी. जहाँ विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने को लेकर राज्यपाल की आपत्तियों पर चर्चा हुई थी. चर्चा के बाद नए सिरे से गहलोत जवाब का मसौदा तैयार कर तीसरी बार विधानसभा सत्र बुलाने की मांग करते हुए राज्यपाल कलराज मिश्र को फाइल भेजी गयी थी, लेकिन बुधवार को खबर आ रही है कि राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने 31 जुलाई से विधानसभा सत्र बुलाने की फाइल को एक बार फिर से राजस्थान सरकार के पास वापस भेजा दिया है.

बड़ी खबर: मोदी कैबिनेट ने बदला HRD मंत्रालय का नाम…  

इस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि तीसरी बार राज्यपाल ने प्रेम पत्र भेजा है. अब मैं उनके साथ चाय पीने जा रहा हूं, क्या बात है? दरअसल राज्यपाल कलराज मिश्र तकनीकी कारणों के चलते इससे पहले भी दो बार सत्र बुलाने की मांग वाली फाइल को लौटा चुके हैं. जिसके बाद अब यह लड़ाई अशोक गहलोत VS सचिन पायलट से हटकर गहलोत बनाम राज्यपाल में बदल गयी है. इसके पहले सोमवार को राज्यपाल ने विशेष विधानसभा सत्र बुलाने की गहलोत सरकार की मांग को खारिज कर दिया था और कहा था कि सत्र बुलाने के लिए सरकार को 21 दिनों का नोटिस देना होगा. राज्यपाल ने यह भी पूछा था कि क्या सरकार कोई विश्वास मत चाहती है.

UAE से भारत के लिए रवाना हुआ राफेल: अंबाला एयरबेस में होगी लैंडिंग

राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा था, ‘यदि किसी भी परिस्थिति में किसी विश्वास मत को पारित करने की जरूरत होती है तो इसे संसदीय मामलों के विभाग के प्रमुख सचिव की उपस्थिति में होना चाहिए और एक वीडियो रिकॉर्डिग भी की जाए. इसका लाइव प्रसारण भी किया जाए.’ इसके साथ ही कोरोना वायरस के संक्रमण का भी हवाला दिया गया था. हालाँकि तीसरी बार फाइल लौटाने के पीछे का अभी कारण पता नहीं चला है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *